Chaitanyata Tere Man ki !

कान लगाकर सुनो हवाएं कुछ कहती हैं,  कह रही हैं वो बात जो तुम्हे पता है !!

धीरे धीरे गुनगुना रही हैं,  गा रही हैं वो राग जो तुम्हे पता है।

 

बच्चों सी चंचल हैं, जल सी शीतल हैं।

जो कहती हैं सच ही कहती हैं, मन की पीतल हैं।

हथेलियों को पलकों पर फिराती हैं, अधीर मन को धीरज बंधाती हैं,

जब भटकती है सोच तुम्हारी, तुम्हे वो याद दिलाती हैं, जो तुम्हे पता है।

 

साफ़ शब्दो से नहीं बोलती, वो दिल अपना तेरे दिल के सामने खोलती हैं,

भाव मन का  जब बाधित होता है, मन की तेरे अड़चनों को खोलती हैं,

वो झूमती हैं… वो झूमती हैं, कभी केश अपने तेरे चहरे पे खोलती हैं,

मन  में प्राण पुनः प्रतिष्ठित करती हैं, ये हवा नहीं चैतन्यता है,

तेरी… तेरे मन की…

आश्चर्य  नहीं होता ??

कैसे ये बोलती हैं… वही जो तुम्हे पता है।  -पथिक

Advertisements

Ae Zindagi !

के काश हकीकत कुछ जुदा होती हकीकत से…. बहती ज़िन्दगी के हम दो किनारे न होते।

ऐ ज़िन्दगी बाँहों में भरले मुझे… के काश जीने के लिए नज़रों के ही बस सहारे न होते।

 

आसमानो में चलता, भोर भये उगते सूरज सा खिलता,

हकीकत को दोनों बाँहें खोलकर मिलता… न मैं होता, न तुम होते बस हम होते…

के काश हकीकत कुछ जुदा होती हकीकत से…. बहती ज़िन्दगी के हम दो किनारे न होते।

 

कब तक अंधेरों में जीया जाये ? घने बादलों से कभी झांक तो ऐ ज़िन्दगी…

हम यूँ ही पीछे हट जाएँ  कैसे मुमकिन है ? दांव पर लगाना क्या है बता ऐ ज़िन्दगी…

गर सोचते इतना तो क्या जमीन पर होते ?…आती जाती हवाओं के ही बस सहारे न होते।

के काश हकीकत कुछ जुदा होती हकीकत से…. बहती ज़िन्दगी के हम दो किनारे न होते।। -पथिक

 

Image courtesy: http://forums.familyfriendpoems.com/files/marocaze/201476192455_15228-feather-life-and-love_large.jpg

Roshan ho !!

थोड़े ज़ज्बात खाली कर, कलम उठा थोड़ी दवात खाली कर।

मायूस अंधेरो में कब तक घूमता रहेगा….

उफ़्क़ पर नयी उमीद उदय होती है…

लफ्ज़ो को अपने पर फैलाने दे…

उलट दे… उलट कर रख दे… दिल में जमी खटास खाली कर

कब तक घुटता रहेगा भीतर के धुऐं में, बाहर आ सब रोशन हो जाने दे ।। -पथिक

Rasm-adaai

कितने वक़्त तक रोशन था… मालूम नहीं…

दिया जला… जलकर बुझ गया….

न शगुन हुआ न अपशगुन…

रस्म अदाई की बात थी…. हो गयी… !! -पथिक

 

Image courtesy: https://upload.wikimedia.org/wikipedia/commons/b/be/Diya_Diwali_India.jpg