Vaadiyon Mai..!!

वादियों मे हुस्न यूँ न घोलो तुम,

के किसी ने कलियों पे सवेरा कम बिखेरा  है।

चांदनी सी शीतल, पर सूरज को जलाती,

उफ्फ !! ये खूबसूरती तुम्हारी…

भोर भये मेरे खयालो को घेरा है  !! -पथिक

 

 

Image Courtesy: https://themuslimtimesdotinfodotcom.files.wordpress.com/2013/01/shutterstock_121773325-e1365928387207.jpg

 

 

Adhoori Mulakat

दिन भर का थका हारा था मैं, सूरज की गर्मी का मारा था मैं,

एक  उपवन मे हरी घास को…जन्नत ही मान रहा था मैं ।

ना जाने कब आँख लगी…न जाने कब वो आयी…

भीगे बदन से गिरती छीटों से जगा रही थी वो,

नज़ाकत से शरारत को हंसी मे छुपा रही थी वो…

चांदनी में तरवतार बदन, भयानक असमंजस प्रतिक्रिया पर मेरी…

योवन से मानो व्यंग कस रही थी वो…

यक़ीनन जन्नत कहानियों मे है…

वो… उसका बदन  खूबसूरती की सीमा थी,

पछताता हूँ चाँद से अपनी जलन को,

मेघो से चाँद को दूर करने को न कहता…

तो निशा से मेरी मुलाकात अधूरी न होती।।  -पथिक

image courtesy: http://4.bp.blogspot.com/-emcZnZyBZDg/VU-J7whZv4I/AAAAAAAABsc/TGo6LrCOAb4/s1600/Moon-digital-drawings-night-art-image-1440×900.jpg

Madhur Hawa ke Geet

मधुर मधुर मृदुल मृदुल, मधुर हवा के गीत |

आसमान की नीली छाया, ये प्यार संगीत |

दिल मांगे आवाज़ चाँद से, महफ़िल में तारों के बीच |

मधुर मधुर मृदुल मृदुल, मधुर हवा के गीत…||

 

ये स्पर्श बड़ा अनोखा, जुगनू का तारों सा धोखा |

मन की अपनी बात अनोखी, बादल की अपनी प्रीत |

मधुर मधुर मृदुल मृदुल…||

 

बादल भी अपना भेद छुपाये, बहती हवा में बहता जाये |

सर सर करती हवा पुकारे, नीचे क्यों बैठा मुझे निहारे |

ओ मेरे मनमीत…|

मदर मधुर मृदुल मृदुल….||

 

बादल का उर भरने आया, नभ पर छाए काली छाया |

क्यों गाता है अपनी उदासी, मुझ  पर बरसा दे अपना सारा शोक |

और बसजा तारो के बीच…|

मधुर मधुर मृदुल मृदुल…||

 

मन कहता है सुनता जाऊँ, कभी मैं भी तारों संग गाऊँ |

पर कोई नहीं सुनता मुझको, ये हवा बड़ा गाती सुन्दर है |

ये हवा बड़ा गाती सुन्दर है, ये हवा बड़ी निर्भीक |

मधुर मधुर,मृदुल मृदुल…||

 

मैं बादल से करता बिनती, जरा ठहर कुछ दिखता मुझको |

इससे पहले कोई तस्वीर जो बनती, सखी निंद्रा हवा की आई |

कहीं कलेश दोनों में न हो जाए, डरकर मैंने ली आँखे मीच |

मधुर मधुर, मृदुल मृदुल, मधुर हवा के गीत || – पथिक

 

Image courtesy: https://s-media-cache-ak0.pinimg.com/600×315/a1/a4/04/a1a40467b5716f8577c1ac4ddb8b750f.jpg