Ae Zindagi !

के काश हकीकत कुछ जुदा होती हकीकत से…. बहती ज़िन्दगी के हम दो किनारे न होते।

ऐ ज़िन्दगी बाँहों में भरले मुझे… के काश जीने के लिए नज़रों के ही बस सहारे न होते।

 

आसमानो में चलता, भोर भये उगते सूरज सा खिलता,

हकीकत को दोनों बाँहें खोलकर मिलता… न मैं होता, न तुम होते बस हम होते…

के काश हकीकत कुछ जुदा होती हकीकत से…. बहती ज़िन्दगी के हम दो किनारे न होते।

 

कब तक अंधेरों में जीया जाये ? घने बादलों से कभी झांक तो ऐ ज़िन्दगी…

हम यूँ ही पीछे हट जाएँ  कैसे मुमकिन है ? दांव पर लगाना क्या है बता ऐ ज़िन्दगी…

गर सोचते इतना तो क्या जमीन पर होते ?…आती जाती हवाओं के ही बस सहारे न होते।

के काश हकीकत कुछ जुदा होती हकीकत से…. बहती ज़िन्दगी के हम दो किनारे न होते।। -पथिक

 

Image courtesy: http://forums.familyfriendpoems.com/files/marocaze/201476192455_15228-feather-life-and-love_large.jpg

Roshan ho !!

थोड़े ज़ज्बात खाली कर, कलम उठा थोड़ी दवात खाली कर।

मायूस अंधेरो में कब तक घूमता रहेगा….

उफ़्क़ पर नयी उमीद उदय होती है…

लफ्ज़ो को अपने पर फैलाने दे…

उलट दे… उलट कर रख दे… दिल में जमी खटास खाली कर

कब तक घुटता रहेगा भीतर के धुऐं में, बाहर आ सब रोशन हो जाने दे ।। -पथिक